Wednesday , September 20 2017

Movie Review: दिल में डर नहीं पैदा कर पाई एनाबेल क्रिएशन

एनाबेल क्रिएशनफिल्म–  एनाबेल क्रिएशन

रेटिंग– 3

सर्टिफिकेट– U/A

अवधि–   1 घंटा 49 मिनट

स्टार कास्ट– मिरांडा ओट्टो, टैलिथा बेटमैन, एन्‍थनी लापाग्‍लिया, स्‍टेफनी सिगमैन

डायरेक्टर– डेविड एफ. सैंडबर्ग

प्रोड्यूसर– न्‍यू लाइन सिनेमा, अटॉमिक मॉन्‍सटर प्रोडक्‍शन, द सैफ्रान कम्‍पनी,

म्‍यूजिक–  जोसेफ बिशारा, बेंजामिन वॉलफिश

कहानी– फिल्म 1940-50 के दशक की कहानी सुनाती है। कहानी में गुड़िया बनाने वाले कलाकार सैम्युअल मलिन्स (एन्थॉनी लैपेग्लिआ) और उनकी पत्नी एस्थर मलिन्स (मिरांडा ऑटो) की बेटी एनाबेल (समारा ली) के इर्द गिर्द घूमती है।

एनाबेल की एक एक्सीडेंट में मौत हो जाती है। एनाबेल की मौत के 12 साल बाद मलिन्स दंपति अपने घर में छह ऐसी लड़कियों को रहने देते हैं, जो अनाथ हैं।  उनका अनाथालय बंद हो चुका है। इन लड़कियों में जेनिस (टेलिथा बेटमैन) और उसकी दोस्त लिंडा (लूलू विल्सन) पोलियोग्रस्तन हैं।

वैसे तो सभी लड़कियों को उनके कमरे दिखा दिए जाते हैं। जेनिस रात में गलती से एनाबेल के कमरे में चली जाती है। अंजाने में वह गुड़िया में बसी बुरी आत्मा को बाहर निकाल देती है।  इसके बाद वह आत्मा  जेनिस के शरीर में प्रवेश करने का प्रयास करती है। ट्विस्ट एंड टर्न से गुजरते हुए कहानी अपने अंजान तक पहुंचती है।

यह भी पढ़ें: Movie Review: माउंटबैटन के शासन को अलग नजर से दिखाती ‘पार्टीशन 1947’

एक्‍टिंग–  फिल्म के सभी स्‍टार्स ने बहुत अच्‍छी एक्टिंग की है। सभी ने अपना बेहतरीन प्रदर्शन दिया है। खास कर अनाथ लड़कियों का किरदार निभा रही सभी लड़कियों ने और सिस्टर शेरलॉट (स्टेफनी सिगमैन) की एक्‍टिंग बहुत अच्‍छी है।

यह भी पढ़ें: Movie Review- स्‍वादिष्‍ट, मीठी और मजेदार है ‘बरेली की बर्फी’

डायरेक्शन–  फिल्म की सिनेमैटोग्राफी बहुत गज़़ब है। लाइटिंग का इस्‍तेमाल बहुत ही खूबसूरती से हआ है। लाइटिंग की मदद से 40-50 के दौर को बहुत अच्‍छे से दर्शाया गया है। फिल्‍म के डरावने दृष्‍य अपके दिमाग पर हावी नहीं होंगे। फिल्म के डरावने दृष्‍य बस कुछ समय के लिए चौंकाते हैं।

म्यूजिक– फिल्‍म का म्‍यूजिक अच्‍छा है। म्‍यूजिक कहानी को काफी मजबूती देता है।

देखें या नहीं–  हॉरर फिल्‍में देखना पसंद है तो एनाबेल क्रिएशन देखने सिनेमाहॉल जा सकते हैं।