Friday , August 23 2019

अध्यात्म

चाणक्य नीति

जिसका ज्ञान किताबो में सिमट गया है और जिसने अपनी दौलत दूसरों के सुपुर्द कर दी है वह जरुरत आने पर ज्ञान या दौलत कुछ भी इस्तमाल नहीं कर सकता            

Read More »

नहीं मिल रही है नौकरी तो न हों परेशान, ये अचूक उपाय दिलाएंगे इस समस्या से निदान

हर किसी का सपना एक अच्‍छी नौकरी पाना होता है। नौकरी जिंदगी की हर उलझन और परेशानियों से छुटकारा पाने की उम्‍मीद होती है। एक बार नौकरी मिल जाए तो हमारे आधे दुख ऐसे ही दूर हो जाते हैं। घर में बीमार सदस्‍य हो या छोटी बहन की शादी करनी ...

Read More »

याद आ जाएगी पिछले जन्म की हर छोटी से छोटी बात, बस करना होगा ये काम

इंसान अपने भविष्‍य के साथ ही अपने भूत के बारे में भी हमेशा से जानने के लिए उत्‍सुक रहता है। अपने पिछले जन्‍म के बारे में हम सब जानना चाहते है, जो कि अब बहुत ही आसान है। इसके लिए कोई जप, तप, या पूजा करने की आवश्‍यकता नहीं होगी। ...

Read More »

चाणक्य नीति

एक ब्राह्मण का बल तेज और विद्या है, एक राजा का बल उसकी सेना में है, एक वैश्य का बल उसकी दौलत में है तथा एक शूद्र का बल उसकी सेवा परायणता में है

Read More »

सावधान! कहीं रूठ न जाएं घर की खुशियां, कैलेंडर लगाते समय रखें इन बातों का ध्यान

घर में कैलेंडर तो हम सब लगाते हैं। लेकिन इससे जुड़ी कुछ बातें और महत्‍व को हम नहीं जानते। इसे बदलने का भी सही समय होता है। इसे समय के अनुसार ही बदलना चाहिए। तारीख, समय और साल के मुताबिक बदलना शुभ होता है। सही समय पर इसका बदलना जिंदगी ...

Read More »

चाणक्य नीति

जब आपका शरीर स्वस्थ है और आपके नियंत्रण में है उसी समय आत्मसाक्षात्कार का उपाय कर लेना चाहिए क्योंकि मृत्यु हो जाने के बाद कोई कुछ नहीं कर सकता है

Read More »

प्रेरक प्रसंग : दुकान में शास्त्री जी

पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री कपड़े की एक दुकान में साड़ियां ख़रीदने गए। दुकान का मालिक शास्त्री जी को देख बेहद प्रसन्न हुआ। उसने उनके आने को अपना सौभाग्य माना और उनका स्वागत-सत्कार किया। शास्त्री जी ने उससे कहा कि वे जल्दी में हैं और उन्हें चार-पांच साड़ियां चाहिए। दुकान ...

Read More »

चाणक्य नीति

सांप के दंश में विष होता है. कीड़े के मुंह में विष होता है. बिच्छू के डंक में विष होता है. लेकिन दुष्ट व्यक्ति तो पूर्ण रूप से विष से भरा होता है.

Read More »

आज का राशिफल, दिनांक-15 जनवरी 2017, दिन-रविवार

मेष : भावनाओं को वश में रखें। बातचीत में संयत रहें। नौकरी में तरक्की का मार्ग प्रशस्त। वस्त्रादि के प्रति रुझान बढ़ेगा। वृष : परिवार में आपसी सहयोग बढ़ेगा। संतान सुख में वृद्धि। नौकरी में तरक्की की संभावना। अफसरों का सहयोग मिलेगा। मिथुन : नौकरी में कठिनाइयों का सामना। इच्छा ...

Read More »

मकर संक्रांति पर शनि की साढ़े साती से बचने के लिए अपनाएं ये उपाय, दूर होगी हर समस्या

मकर संक्रांति का शनिवार को पड़ना एक दुर्लभ संयोग है। आज के दिन सूर्य धनु राशि से निकलकर मकर राशि में प्रवेश करता है। आज का दिन बहुत ही शुभ है। इस मकर संक्रांति पर शनि की साढ़े साती से बचने के लिए सभी  राशियों के लोगों को शनि की ...

Read More »

चाणक्य नीति

कुल की रक्षा के लिए एक सदस्य का बिलदान दें, गांव की रक्षा के लिए एक कुल का बिलदान  दें, देश  की रक्षा के लिए एक गांव का बिलदान  दें, आतमा की रक्षा के लिए देश का बिलदान  दें

Read More »

चाणक्य नीति

एक दुर्जन और एक सर्प मे यह अंतर है की साप तभी डंख मरेगा जब उसकी जान को खतरा हो लेकिन दुर्जन पग पग पर हानि पहुचने की कोशिश करेगा    

Read More »

चाणक्य नीति

अपने व्यवहार में बहुत सीधे ना रहे, आप यदि वन जाकर देखते है तो पायेंगे की जो पेड़ सीधे उगे उन्हें काट लिया गया और जो पेड़ आड़े तिरछे है वो खड़े है  

Read More »

चाणक्य नीति

ब्राह्मण अच्छे भोजन से तृप्त होते है, मोर मेघ गर्जना से, साधू दुसरों  की सम्पन्नता देखकर और दुष्ट दुसरों की विपदा देखकर    

Read More »

चाणक्य नीति

एक ब्राह्मण का बल तेज और विद्या है, एक राजा का बल उसकी सेना मे है, एक वैशय का बल उसकी दौलत मे है तथा एक शुद्र का बल उसकी सेवा परायणता मे है  

Read More »

शास्त्रों और पुराणों से खुला रहस्य, नहीं ग्रहण करना चाहिए किन्नर के घर भोजन, नहीं तो…

कहते हैं कि समय और अन्न पर किसी का अधिकार नहीं. समय लगातार अपनी एक गति के साथ आगे बढ़ता रहता है और अन्न के बिना जीवन संभव नहीं है. चूँकि अन्न हमारे जीवन के लिए सबसे ज़रूरी चीज है इसलिए इसका शुद्ध होना भी बेहद ज़रूरी है. अन्न यानी ...

Read More »

प्रेरक-प्रसंग : किसी की आलोचना करने से पहले सौ बार सोच लें

एक समय की बात है गौतम बुद्द किसी गांव के रास्ते जा रहे थे। उन्हें देखकर गांव के कुछ लोग उनके पास आए, और उनकी वेशभूषा देख उनका उपहास और अपमान करने लगे। तथागत ने कहा, ‘यदि आप लोगों की बात समाप्त हो गई हो तो मैं यहां से जाउं। ...

Read More »