Monday , November 20 2017

28 को सचिवालय कूच करेंगे बिजली कर्मचारी

उत्तराखंडदेहरादून : उत्तराखंड ऊर्जा कामगार संगठन की बुधवार को हुई बैठक में 21 अगस्त से प्रस्तावित आंदोलन को लेकर चर्चा हुई। संगठन के प्रदेश अध्यक्ष राकेश शर्मा ने कहा कि शासन और तीनों ऊर्जा निगम लगातार कर्मचारियों के साथ सौतेला व्यवहार कर रहे हैं। जिन मुद्दों पर वार्ताओं में सहमति बनी, उन पर भी आज तक कोई कार्यवाही नहीं हुई। जिससे कर्मचारियों में भारी आक्रोश है। इसी के चलते आगामी 28 अगस्त को सचिवालय कूच किया जाएगा।

ओलंपिक पदक विजेता पीवी सिंधु ने संभाला डिप्टी कलेक्टर का पद

उन्होंने कहा कि शासन और ऊर्जा निगम की लापरवाही के कारण संगठन को आंदोलन का निर्णय लेना पड़ा है। कहा कि 21 से 23 अगस्त तक कर्मचारी काली पट्टी बांधकर काम करेंगे। 26 अगस्त को गेट मीटिंग होंगी और 28 अगस्त को सचिवालय कूच किया जाएगा। कार्यवाहक अध्यक्ष दीपक बेनीवाल ने कहा कि वेतन विसंगतियों का निस्तारण अभी तक नहीं हुआ है, जिससे कर्मचारियों को आर्थिक हानि ङोलनी पड़ रही है। यूपीसीएल में अवर अभियंता पद पर पदोन्नति भी बेवजह लटकाई हुई है और तकनीशियन को प्रभारी अवर अभियंता बनाकर भ्रष्टाचार को बढ़ावा दिया जा रहा है। जल विद्युत निगम में वरिष्ठता का मुद्दा लंबे समय से अटका हुआ है।

‘नाबालिग पत्नी’ से संबंध बनाना अपराध या नहीं? SC ने दिया ऐतिहासिक जवाब

उन्होंने कहा कि ग्रेड पे 2600 वाले कार्मिकों का ग्रेड पे 3000 हजार करने को निगम प्रबंधन प्रभावी पैरवी नहीं कर रहा। साथ ही 30 सितंबर 2005 तक सेवा में आए कार्मिकों को जीपीएफ पेंशन स्कीम का लाभ देने की मांग को भी स्वीकृति नहीं दी जा रही। बैठक में महामंत्री विजय बिष्ट, आशीष सती, विजय गुसाईं, सचिन नंदा, गोपाल बिहारी, हरेंद्र कुमार, एसके शर्मा, अशोक जोशी, मनीष कुमार आदि मौजूद रहे।