Friday , November 24 2017

यूपी में बाढ़ के कहर से लोग पलायन को मजबूर, सीएम योगी आज करेंगे हवाई सर्वेक्षण

बाढ़ का कहरलखनऊ। नेपाल में बहने वाली नदियों की वजह से पूर्वी उत्तर प्रदेश में बाढ़ का कहर जारी है. सैकड़ों लोग अपना घरबार छोड़कर पलायन को मजबूर हैं. वहीं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बुधवार को बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण करेंगे.

मुख्यमंत्री आज सुबह 9.30 बजे से 4 बजे तक महाराजगंज, बलरामपुर, कुशीनगर, सीतापुर, बहराइच समेत अन्य बाढ़ प्रभावित जिले का सर्वेक्षण करेंगे और वहां चल रहे रेस्क्यू ऑपरेशन का जायजा लेंगे.

लद्दाख में चीन ने की घुसपैठ की कोशिश, भारतीय सेना ने दिखाई औकात

बता दें कि महाराजगंज में फफेन्दा नदी उफान पर है, जिसकी वजह से 60 से ज्यादा गांव बाढ़ की चपेट में हैं. हजारों लोग घर छोड़कर रात बंधे पर गुजरने को मजबूर हैं. आलम तह है कि महाराजगंज-फफेन्दा रोड पूरी तरह से डूबा हुआ है जिसकी वजह से आवागमन भी बाधित है. बाढ़ की वजह से हजारों एकड़ फसल बर्बाद हो चुकी है.

वहीं बलरामपुर में भी स्थिति कमोबेश ऐसी ही है. यहां भी राष्ट्रीय राजमार्ग बाढ़ के पानी में डूब गया है. 400 से ज्यादा गांव बाढ़ की वजह से प्रभावित है. यहां एनडीआरऍफ़ और एसएसबी की टीम रेस्क्यू ऑपरेशन में जुटी है.

कुशीनगर जनपद और बिहार सीमा पर नारायणी नदी में नेपाल में हो रही भारी बरसात के चलते पानी का डिस्चार्ज कल देर रात अचानक बढ़ गया. इस बंधे के टूटने से लगभग डेढ़ दर्जन गांवों के हजारों घरों में पानी भर गया है. प्रभावित गावों में हालात बद से बदतर हो गई है. वहीं गांव के लोग अपना घर का सामान सर पर लेकर दूसरे जगह पलायन कर रहे हैं.

बता दें, कि बाढ़ की इस तबाही से कुशीनगर के छितौनी, नरकहवा, बुलहवा, टेंगरहा, बीडिगंज, जोकहिया, सालिकपुर, महदेवा सहित लगभग डेढ़ दर्जन गांव बुरी तरह प्रभावित हैं. हाईवे पर पानी भरने की वजह से सड़क पर छोटी सवारी गाड़ियों का आगमन पूरी तरह से ठप हो गया है.

साढ़े पांच लाख की बाइक से रेस लगाना युवक को पड़ा भारी, हेलमेट के कैमरे में कैद हुआ खौफनाक मंज़र

बात अगर बहराइच की करें तो अब तक बाढ़ की वजह से छह लोगों की मौत हो चुकी है. सीतापुर, कुशीनगर, सिद्धार्थनगर और लखीमपुर खीरी में भी बाढ़ का कहर जारी है. बाढ़ प्रभावित अपने दौरे के दौरान मुख्यमंत्री लोगों को रहत की सौगात भी देंगे.

मुख्यमंत्री पीलीभीत का दौरा भी करेंगे. यहां वे बाघ के हमले में मारे गए चार किसानों के परिवारों को 5-5 लाख रुपए की आर्थिक सहायता भी देंगे.