Friday , September 22 2017

मोतियों के शहर में बसी एक सपनों की दुनिया की हकीकत में सैर

हैदराबादहैदराबाद। रोजमर्रा की जिंदगी से जब मन ऊबने सा लगता है, तो सपने में ऐसी जगह दिखने लगती है जहां कुछ नया, कुछ अलग हो और कुछ दिन परिवार समेत आराम से मौजमस्ती की जा सके। ऐसे में अगर कोई उस स्वप्नलोक का पता बता दे जहां खुली आंखों से ही जाना संभव हो, तो फिर क्या कहना। आज हम आपको सिर्फ स्वप्नलोक का पता ही नहीं बल् उसकी सैर भी करवाएंगे। हैदराबाद के निकट रामोजी फिल्मसिटी एक ऐसा ही जीता जागता स्वप्नलोक है।

यह भारत के मोतियों के शहर हैदराबाद में मौजूद है। इसे दुनिया का सबसे बङा फिल्म स्टूडियो परिसर माना जाता है। देखा जाए तो यह फिल्मों की शूटिंग का एक केंद्र है, लेकिन यह एक ऐसी जगह भी है जो अपने अंदर पर्यटन के हर पहलू को समेटे हुए है। यहां एक तरफ कुदरत के नजारे भी हैं और ऐतिहासिक स्थल भी। एक ओर मेले जैसा कोलाहल है तो दूसरी तरफ अद्भुत शांति भी। देशी-विदेशी जगहों पर घूमने के आनंद के साथ ही यहां रहस्य और रोमांच के अनुभव भी हैं। रोमांटिक हॉलीडे मनाने के लिए यह स्वर्ग जैसा है तो बच्चों के लिए किसी परिलोक से कम नहीं।

यहां के लिए एक बात मशहूर है कि यहां आप कदम रखिए फिल्म के आइडिए के साथ और वापसी में खिल्म को ले जाएं अपने साथ। फिल्म-निर्माण के अलावा रामोजी फिल्म सिटी एक प्रसिद्ध पर्यटन केंद्र भी है, जहां हरसाल दस लाख से भी ज्यादा लोग आते हैं।

फिल्म सिटी में हर साल करीब दस लाख पर्यटक आते हैं। फिल्म स्टूडियों इन पर्यटकों के लिए खास आकर्षण होते हैं। इससे फिल्म सिटी को अरबों की आमदनी होती है। पर्यटकों के लिए विशेष प्रकार का खुला कोच होता है। फिल्म सिटी के प्रवेशद्वार पर एक तीन-सितारा होटल तारा और पंच सितारा होटल सितारा फिल्म स्टूडियो की सुंदरता में चार चांद लगाती है। ये होटल पर्यटकों और फिल्म निर्माण से जुड़े लोगों को आरामदेह ठहराव देता है। होटल के एक ओर हवा महल है जहां से फिल्म सिटी का विहंगम स्वरूप देखा जा सकता है। फिल्म सिटी नवविवाहित जोड़ों के लिए हनीमून पैकेज भी देती है। जापानी गार्डन, ईटीवी प्लेनेट, ताल, कृत्रिम जलप्रपात, हवाई अड्डा, अस्पताल, रेलवे स्टेशन, चर्च, मस्जिद, मंदिर, शॉपिंग कॉपलेक्स, खूबसूरत इमारतें, देहाती दुनिया, स्लम, राजपथ आदि इस फिल्म सिटी के दर्शनीय स्थल हैं। फिल्म सिटी के कोच पर पर्यटन गाइड भी होता है। यहां के कुछ सेट प्राचीन राजा-महाराजाओं के किलों की याद दिलाते हैं तो कुछ देश में बॉलीवुड का दर्शन कराते हैं।

फिल्म मेकिंग के अलावा यह जगह पर्यटकों को मनोरंजन के कई साधन उपलब्ध कराता है। यहां जॉय राइड, फन इवेंट, म्यूजिक आधारित प्रोग्राम, गेम शो और डांस का आयोजन नियमित रूप से किया जाता है। फिल्म सेंटर में आप खाने और शॉपिंग का भी आनंद उठा सकते हैं।

उद्यान कई तरह के

रामोजी फिल्मसिटी का सतरंगी संसार हनीमूनर्स के लिए तो स्वर्ग ही है। क्यों न हो? आखिर उन्हें लुभाने के लिए यहां दो-चार नहीं, बल्कि पचास से अधिक छोटे बड़े मनमोहक उद्यान हैं। इनमें हर रंग के फूलों की अभूतपूर्व छटा बिखरी हुई है। ड्रीम वैली पार्क में फव्वारों के इर्द-गिर्द टहलते युगल कुछ ऐसा ही महसूस करते हैं जैसे सपनों की घाटी में आ पहुंचे हो। अम्ब्रेला गार्डन में तो फूलों से बनी छतरियों की कतारें हैं। इन पर लाल और सफेद रंग के फूलों की घाटी सी फैली है। एनीमल गार्डन में बहुत से वन्य प्राणियों की हरी-भरी आकृतियां खड़ी हैं। ऐसा लगता है जैसे किसी अभ्यारण्य में पहुंच गए हों।

एक जगह चाय बागान के दृश्य को साकार किया गया है, जहां दर्शकों को आसाम या दार्जिलिंग में होने का आभास होता है। जापानी गार्डन में पहुंचकर सैलानियों को ऐसा लगता है जैसे वे जापान ही पहुंच गए हो। इसी तरह डेजर्ट गार्डन और कोम्बो गार्डन की जीवंत दृश्यावली भी नवविवाहित युगलों का मन मोह लेती है।