Monday , October 23 2017

भारत रत्न सचिन के सामने भूख हड़ताल

मुंबई। क्रिकेट के भगवान सचिन तेंदुलकर पर लोग भरोसा करते हैं। लेकिन मुंबई के एक शख्स का विश्वास टूटा है। उसने तय किया है कि अब वह सचिन तेंदुलकर के घर के सामने भूख हड़ताल करेगा। यह हड़ताल तब तक जारी रहेगी, जब तक सचिन खुद उसे न्याय दिलाने के लिए आगे नहीं आते।

सचिन तेंदुलकर

सचिन तेंदुलकर से सवाल

पुणे के रहने वाले 33 साल के संदीप कुरहदे ने कंस्ट्रक्शन कंपनी अमित एंटरप्राइजेस के खिलाफ बांद्रा पुलिस स्टेशन में रिपोर्ट लिखाई है। संदीप का कहना है कि इस कंपनी ने उनसे चार साल पहले 20 लाख रुपए में एक जमीन खरीदी। पुणे के बद्रक में अम्बेगांव में स्थित यह जमीन संदीप के पुरखों की थी।

लेबोरट्री टेक्नीशियन संदीप का दावा है कि इस जमीन को बाद में दो करोड़ रुपए में बेचा गया। इस काम को उनके मामा शिवाजी पिंजन और अमित एंटरप्राइजेस की मिलीभगत से किया गया। इसके बदले अमित इंटरप्राइजेस ने उनके मामा को डेढ करोड़ रुपए दिए।

यह सच सामने आने के बाद संदीप ने मुंबई वेस्ट के पुलिस कमिश्नर से शिकायत की। साथ ही बांद्रा थाने में भी रिपोर्ट लिखवाई। संदीप ने कहा है कि वह 18 मई से अपने परिवार के साथ सचिन के घर के बाहर भूख हड़ताल पर बैठेगा। उसने पुलिस से सुरक्षा की मांग भी की है।

संदीप को उम्मीद है कि मास्टर ब्लास्टर इस मामले में उसका साथ देंगे और अमित एंटरप्राइजेस के खिलाफ सख्त कार्रवाई करवाएंगे।

साल 2010 में सचिन, अमित इंटरप्राइजेस के ब्रांड एम्बेस्डर बने थे। इसके एवज में उन्हें नौ करोड़ रुपए दिए गए थे। इसमें से ढाई-ढाई करोड़ के दो विला भी शामिल थे। हालांकि बाद में सचिन ने अमित इंटरप्राइजेस के ब्रांड एम्बेस्डर का पद त्याग दिया था।

पुलिस को लिखे अपने खत में संदीप ने सचिन से भी अपील की है। उन्होंने लिखा है, ‘हमने सचिन के बारे में बहुत कुछ सुना है। वह एक महान क्रिकेटर और राज्यसभा सांसद हैं। उनके लोगों की मदद करने के लिए जाने जाते हैं। अब हम चाहते हैं कि हमारे लिए न्याय की लड़ाई लड़ें। हम उनके घर के सामने भूख हड़ताल करने जा रहे हैं। हम उस बिल्डर के खिलाफ कार्रवाई होते देखना चाहते हैं। सचिन नैतिक रूप से इसमें हमारी मदद कर सकते हैं। अगर उन्होंने मदद नहीं की तब भी हम उनके फैन रहेंगे।’

संदीप की मां रंजना भी उनके साथ हैं। वह कहती हैं, ‘अमित इंटरप्राइजेस के मालिक पाटे परिवार ने जमीन से जुड़़े सारे अधिकार मेरे भाई शिवाजी पिंजन को दे दिए हैं।’ वहीं, पाटे परिवार के रोहन कहते हैं, ‘यह सभी आरोप झूठे हैं। जमीन खरीदते समय सारी बातें साफ हो गई थीं। अब पैसे ऐंठने की नियत से यह सब किया जा रहा है।’