Thursday , December 14 2017

बेटियों का कृषि शिक्षा की तरफ बढ़ रहा रुझान

मेरठ: डॉक्टर और इंजीनियरिंग के साथ ही बेटियां कृषि शिक्षा में भी किस्मत आजमा रही हैं। कृषि क्षेत्र की हर बारीकी को सीख रही हैं। स्नातक से लेकर पीजी तक छात्राओं की संख्या ठीकठाक है। वैज्ञानिक बनने के लिए रिसर्च भी कर रही हैं।

रोजगार के बढ़ते अवसरों को देखते हुए लड़कियां का इस क्षेत्र में रुझान बढ़ा है। भारत में कृषि शिक्षा ग्रहण करने वाले लोगों की बेरोजगारी का प्रतिशत सबसे कम है, जिसके चलते युवाओं का क्रेज इस ओर बढ़ रहा है।

भारत सरकार ने 2030 तक कृषि उत्पादकता दोगुनी करने का फैसला किया है। इसके लिए कृषि में छात्र-छात्राओं की मांग और बढे़गी। सरदार वल्लभ भाई पटेल कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय में पढ़ रही बेटियों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। पिछले वर्षों की तुलना में हर साल 15 से 20 प्रतिशत लड़कियों की संख्या बढ़ रही है। बीएससी एजी, एमटेक बायोटेक और पीएचडी में भी संख्या अच्छी है।

 

छात्राओं की संख्या पर नजर

2011

बीएससी एजी           5

बीटेक  बायोटेक        29

एमएससी                  3

एमटेक एईएफटी       3

एमटेक बायोटेक       10

पीएचडी                    3

 

2012

बीएससी एजी             6

बीटेक बायोटेक          28

एमएससी एजी           6

एमटेक एईएफटी        4

एमटेक बायोटेक        12

पीएचडी                     10

 

2013

बीएसी एजी              15

बीटेक बायोटेक        17

एमएससी                 9

एमटेक एईएफटी      4

एमटेक बायोटेक       7

पीएचडी                   7

 

2014

बीएससी एजी          11

बीटेक बायोटेक        23

एमएससी                8

एमटेक बायोटेक     11

एमटेक एईएफटी     8

पीएचडी                  8

 

2015

बीएससी एजी           10

बीटेक बायोटेक        18

एमएससी               12

एमटेक  बायोटेक   15

एमटेक एईएफटी    7

पीएचडी                 10

 

प्रस्तुति :- अक्षय कुमार