Wednesday , September 20 2017

बर्थडे स्पेशल : वो शख्स जो मेंहदी से ज्यादा पिसा और रंग पूरी दुनिया पर छाया

दलेर सिंहमुंबई : दलेर मेंहदी का आज जन्मदिन है. दलेर का जन्म 18 अगस्त 1967 को हुआ था. दलेर की पर्सनल और प्रोफेशनल लाइफ के बारे में सभी जानते है. म्यूजिक इंडस्ट्री में दलेर ने जो मुकाम हासिल किया है. उसके लिए दलेर ने काफी मेहनत की है. लेकिन शायद ही लोगों को पता होगा कि वह दलेर सिंह से दलेर मेहंदी कैसे बने.

दलेर ने नाम के साथ पैसा भी बहुत कमाया है. गानों के साथ दलेर की दरियादिली ने भी काफी चर्चा बटोरी है.

वैसे तो दलेर का मूल नाम दलेर सिंह है. लेकिन वह अपने दलेर मेहंदी के नाम से फेमस हैं. दलेर के गानों की तरह ही उनके नाम की स्टोरी भी दिलचस्प है.

यह भी पढ़ें : ब्रेकअप के बाद वायरल हो रही रणवीर-दीपिका की किस वाली तस्वीर

दलेर नाम उनके पापा ने उस समय के खूंखार डाकू दलेर सिंह से प्रेरित होकर रखा था. फिर उसी दौर के एक मशहूर सिंगर थे परवेज मेहंदी. उनसे प्रेरित होकर दलेर के मम्मी-पापा ने उनका नाम दलेर सिंह की बजाय दलेर मेहंदी कर दिया.

दलेर के करियर की बात करें तो उसकी शुरुआत उन्होंने बचपन में ही कर दी थी. 11 साल की उम्र में दलेर ने गोरखपुर के उस्ताद राहत अली खान साहिब से संगीत सीखने के लिए अपना घर भी छोड़ दिया था. वह एक साल तक राहत साहब के साथ रहे.

दलेर ने 13 साल की उम्र में पहली बार स्टेज परफॉरमेंस दी थी. यह परफॉरमेंस 20,000 लोगों के सामने दी थी. इसके बाद उनके करियर का बल्ले-बल्ले दौर ही शुरू हो गया.

दलेर के गानों के साथ ही पंजाब का भांगड़ा भी दुनिया भर में पॉपुलर हो गया. उनका पहला ही गाना बोलो तारा रा रा रातोंरात लोगों के बीच ऐसा मशहूर हुआ कि रिलीज के बाद ही इस गाने की 20 मिलियन कॉपियां बिक गई. केरल में इस गाने की रिलीज के 25 दिन के अंदर इसकी ढाई लाख कॉपियां बिक गई थीं.

हाल ही में वह ब्लॉकबस्टर हिट बाहुबली-2 में जियो रे बाहुबली गाते नजर आए थे, तो जल्द ही रिलीज होने वाली पोस्टर बॉयज में कुड़िया शहर दी गाया है.