Wednesday , July 17 2019

बच्चों से लेकर डेड बॉडी तक को खा जाते हैं यहां के लोग, बुरी तरह फैला है अंधविश्वास

अंधविश्वासनई दिल्ली: दुनिया के लगभग सभी देशों में अंधविश्वास कायम है। अमेरिका जैसे विकसित देशों में प्रचलित लकी चार्म या 13 के अंक को लेकर डर भी अंधविश्वास का ही रूप है। लेकिन बहुत सारे देशों में अंधविश्वास बहुत भयावह रूप में फैला हुआ। इसके चलते हर साल हजारों लोगों को जान गंवानी पड़ती है या शारीरिक और मानसिक रूप से खूब तड़पना पड़ता है। बेहद दुख की बात यह है कि इस प्रकार के अंधविश्वास का सबसे बुरा असर बच्चों और महिलाओं पर पड़ता है।

पृथ्वी पर ‘गलती’ से हुई मानव उत्पत्ति : रिपोर्ट

अंधविश्वास की हद

अफ्रीकी देश कांगो में किसी को अगर बच्चे की परवरिश नहीं करनी होती, तो एक रास्ता यह होता है कि उसे डायन या काला जादू करने वाला घोषित करके घर से निकाल दिया जाए। लोग आमतौर पर सौतेले बच्चे के साथ ऐसा करते हैं या फिर उस बच्चे के साथ, जिसे उनके रिश्तेदार मरने के बाद उनके जिम्मे छोड़ गए होते हैं। लोग एक-दूसरे के बच्चों पर दुश्मनी में ऐसा इल्जाम भी लगाते हैं। यदि आस-पड़ोस के लोग किसी बच्चे को विच कहने लगते हैं, तो फिर उसके पैरेंट्स को प्रीस्ट के पास ले जाकर उसकी शुद्धि करानी पड़ती है। इसमें बच्चे को इस बुरी तरह टॉर्चर किया जाता है कि थर्ड डिग्री भी शरमा जाए।

बॉक्सर की बीवी को पसंद आया दूसरे बॉक्सर का पंच… हो गया तलाक..

युगांडा में बच्चों की बलि

मॉडर्न युगांडा में भी जादू-टोना बहुत बड़े पैमान पर जारी है। यहां विच डॉक्टर, यानी ओझा होते हैं, जो कई तरह की समस्याओं के समाधान का दावा करते हैं। इसके लिए वे बच्चों की बलि चढ़ाने से भी नहीं हिचकते। हर साल युगांडा में सरकारी रिकॉर्ड में 15-20 बच्चों के नाम विचक्राफ्ट विक्टिम के रूप में दर्ज होते हैं। ये तो ऑफिशियल आंकड़ा है, इस काम के लिए अपहरण करके मारे जाने वाले बच्चों की असली संख्या कई गुना हो सकती है। ये ओझा और तांत्रिक बच्चों के अंग निकालकर भी उनका कई तरह से इस्तेमाल करते हैं। यहां तक कि खा भी जाते हैं।

और अब पैदा होंगे… डिजाइनर बेबी…

कैमरून में जादू-टोने का बोलबाला

कैमरून में इस्लामिक आतंकी संगठन बोको हराम का असर बढ़ता जा रहा है। पिछले साल वहां के राष्ट्रपति पॉल बिया ने लोगों से अपील की कि वे बोको हराम से लड़ें। इसके लिए जादू-टोने का तरीका भी सुझाया गया। दिलचस्प बात यह है कि कैमरून में जादू-टोने से जुड़ी गतिविधियों पर सरकारी प्रतिबंध है। इसके बावजूद वहां तांत्रिकों का बोलबाला है, जो बला दूर करने या अच्छी किस्मत को आकर्षित करने के लिए तंत्र, टोटका आदि करते हैं और ताबीज जैसी चीजें बेचते हैं।

खौफनाक सच… 1970 से चल रहा है भूतों का रेडियो स्टेशन

रोमानिया के अमीर विच

रोमानिया की एक बड़ी आबादी टोने-टोटके का सहारा लेती है। वहां विच को बड़ा अहम दर्जा मिला हुआ है। लोग इनके पास अपनी किस्मत में सुधार करवाने आते हैं या किसी से बदला लेने के लिए। इसके लिए इन विच को बड़ी रकम दी जाती है। रोमानिया में यह धंधा पूरी तरह लीगल है और ये लोग अपनी आय पर सरकार को टैक्स भी देते हैं। हाल ही में सरकार ने उन पर टैक्स की दर बढ़ाई भी है।