Friday , September 22 2017

तेजस्वी यादव पर दर्ज हुआ देशद्रोह का मुकदमा, किया राष्ट्रगीत का अपमान    

तेजस्वी पर देशद्रोहनई दिल्ली। बिहार में सियासी उथल-पुथल के बाद मानों राजद सुप्रीमों लालू प्रसाद यादव के परिवार का मानों राहुकाल शुरू हो गया है। एक और जहां उनकी बेटी मीसा भारती और दामाद शैलेश कुमार को आयकर विभाग ने समन जारी किया, वहीं उनके बेटे तेजस्वी पर देशद्रोह का मुकदमा दर्ज हो गया। मामला बिहार के दरभंगा में दर्ज किया गया है। तेजस्वी पर देश के राष्ट्रगीत वंदे मातरम् के अपमान का आरोप लगा है।

लालू यादव की बेटी और दामाद पर आयकर विभाग ने फोड़ा नया ‘बम’

बता दें कि 13 अगस्त को तेजस्वी यादव ने एक ट्वीट किया था। इस ट्वीट में तेजस्वी यादव ने उमाशंकर सिंह नाम के शख्स के ट्वीट के पर टिप्पणी की थी।

उमाशंकर सिंह ने लिखा था, ‘बंदे मारते हैं हम।’ इस ट्वीट को रिट्वीट करते हुए तेजस्वी यादव ने लिखा था, ‘सही कहा इनका “वंदे मातरम्” = बंदे मारते हैं हम।’

तेजस्वी यादव की इस टिप्पणी पर जदयू तकनीकी प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष इकबाल अंसारी ने सीजीएम कोर्ट में याचिका दायर की है और कहा है कि तेजस्वी यादव ने 13 अगस्त के एक ट्वीट से राष्ट्रगीत का अपमान किया है।

उनके इस ट्वीट से भारतीय और भारतीयता को ठेस पहुंची है। इस केस में जदयू नेता ने उमाशंकर सिंह को भी अभियुक्त बनाया है।

बता दें इन दोनों पर आईपीसी की धारा 124 (A) (राष्ट्रद्रोह), 120 (B) भा। दण्ड विधान, 501 (B) भारतीय दण्ड विधान, प्रिवेंशन ऑफ इंसल्ट टू नेशनल ऑनर एक्ट 69 (1971) के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है।

5 लाख का लालच देकर 65 साल के शेख ने नाबालिग से किया निकाह

याचिका में कहा गया है कि एक पूर्व उपमुख्यमंत्री के ऐसे राष्ट्रविरोधी ट्वीट से यह बात साबित हो जाती है कि इनको अपना राजनीतिक स्वार्थ साधने के लिए न तो राष्ट्र के सम्मान की चिंता है और न ही राष्ट्र की छवि की।

अंसारी ने कहा कि इस ट्वीट पर कड़ी आलोचना होने के बावजूद तेजस्वी यादव ने ना तो इस ट्वीट को डिलीट किया और ना ही इसके लिए माफी मांगी। आरजेडी नेता के रवैये से राहत होकर उन्हें अदालत की शरण में आना पड़ा।

देखें वीडियो :-