Tuesday , December 18 2018

‘डाटामेल’ एप के जरिए शुरू कीजिए खुद का ‘डाटारेडियो’

'डाटामेल'नई दिल्ली| ‘मेक इन इंडिया’ की पहल के तहत डिजिटलीकरण को बढ़ावा देने के मकसद से तैयार किए गए ‘डाटामेल’ एप में एक और विशेष फीचर जोड़ा गया है। देश के सम्मानित तकनीकी अन्वेषक और डाटा एक्सजेन टेक्नोलॉजीज प्राइवेट लिमिटेड के संस्थापक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी डॉ. अजय डाटा ने भाषाई ई-मेल सेवाओं के तहत आज अनूठे ‘डाटारेडियो’ को लॉन्च करने का एलान किया। ‘डाटारेडियो’ एक अभिनव सुविधा है, जिसे महžवपूर्ण विषयों पर अपने श्रोताओं को सूचित करने के लिए बनाया गया है।

डाटामेल 8 भारतीय भाषाओं में उपलब्ध एक ई-मेल सेवा है जिसे करीब 3 महीने पहले भारत में लॉन्च किया गया था।

डाटा एक्सजेन टेक्नोलॉजीज प्राइवेट लिमिटेड के संस्थापक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी डॉ. अजय डाटा कहते हैं, “डाटामेल की डाटारेडियो सेवा निशुल्क होगी और इसके तहत उपयोगकर्ता अपने प्रशंसकों, अनुयाइयों या अपने समूह को जानकारी देने के लिए अपना खुद का ‘डाटा रेडियो चैनल’ शुरू कर सकता है। उपयोगकर्ता प्रत्येक डाटा रेडियो चैनल में एक साथ लाखों सदस्यों को जोड़ सकता है। डाटामेल मोबाइल एप्लिकेशन में यह सुविधा एक नोटिफिकेशन मॉडल पर आधारित है और इसमें ‘बाई चॉइस’ का एडवांस फंक्शन भी है जो इसमें दिलचस्पी रखने वाले लोगों को ट्यून करने की अनुमति देता है।”

डॉ. अजय डाटा कहते हैं, “हालांकि ट्विटर और फेसबुक पर भी लोगों को आपस में जुड़ने और अपने विचार साझा करने की सुविधा है, पर यहां ट्रोलिंग और अपमानजनक टिप्पणियों का भी खतरा जुड़ा है और कई बार महžवपूर्ण संदेश भी लोगों तक नहीं पहुंच पाते। जबकि डाटामेल में संदेश उन सभी लोगों तक तुरंत पहुंचता है जिन्होंने रेडियो ट्यून कर रखा है और उनके फोन में यह संदेश सुरक्षित भी रखे रहते हैं, ताकि वे चाहें तो इसे बाद में देख लें या सुन लें।”

डाटा रेडियो का इस्तेमाल नियमित रूप से जानकारी साझा करने के लिए विभिन्न मंत्रालयों और उनके संबद्ध विभागों, पंचायतों, बैंकों, विश्वविद्यालयों और अन्य प्रतिष्ठित लोगों द्वारा किया जा सकता है। डाटा रेडियो में वन वे मैसेजिंग की सुविधा है और इसे इस तरह डिजाइन किया गया है कि प्रेषक और प्राप्तकर्ता की पहचान का खुलासा भी नहीं किया जाए और उन्हें सुरक्षित रखते हुए ट्रोलिंग के खतरे से भी बचाया जा सके।

गौरतलब है कि डाटामेल भारत संचार निगम लिमिटेड (बीएसएनएल) के ग्राहकों के बीच लोकप्रिय है और अब बीएसएनएल के 8.95 करोड़ ग्राहकों को यह सुविधा उपलब्ध होगी।