Monday , July 22 2019

टॉपर के मुंह खोलते ही बिहार बोर्ड की बोलती बंद, इन्हें भी नहीं पता सब्जेक्ट का ‘S’

बिहार बोर्डपटना। बिहार बोर्ड के शिक्षा के स्तर का पता वहां के टॉपर के मुंह खोलते ही लगाया जा सकता है। पिछले साल बिहार की आर्ट्स टॉपर रूबी राय ने पॉलिटिकल सायेंस को प्रोडिकल सायेंस बताकर पूरे देश में राज्य की शिक्षा व्यवस्था की खिल्ली उड़वाई थी। ऐसा लग रहा है कि फिर इस साल वही काम टॉपर गणेश कुमार कर रहे हैं। संगीत विषय में 70 में से 65 अंक लाने वाले गणेश को विषय की बुनियादी समझ तक नहीं है। कैमरे पर टॉपर की पोल खुलने के साथ ही फिर से एक बार बिहार सरकार की शिक्षा व्यवस्था पर गंभीर सवाल खड़े हो रहे हैं।

यह भी पढ़ें : योगी पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने पर मुकदमा दर्ज

स्थानीय मीडिया में जब उनसे संगीत से जुड़े सामान्य सवाल पूछे तो वह उसका भी जवाब नहीं दे सका। एक टीवी न्यूज चैनल को दिए इंटरव्यू में उसने बताया कि लता मंगेशकर को ‘मैथिली कोकिला’ के नाम से जाना जाता है। बता दें कि गणेश ने समस्तीपुर के स्कूल से पढ़ाई की है और समस्तीपुर की ही प्रसिद्ध लोक गायिका शारदा सिन्हा को मैथिली कोकिला के नाम से जाना जाता है। वहीं, संगीत की बुनियादी बातें जैसे सुर, ताल और मात्रा किसे कहते हैं, यह बताने में भी गणेश के पसीने छूटने लगे। वहीं, जब उससे पूछा गया कि संगीत के प्रैक्टिकल में उसने क्या गाया था तो उसने कुछ चलताऊ बॉलिवुड फिल्मों के गीत गा दिए।

गणेश ने समस्तीपुर के चकहबीब के जगदीप नारायण उच्च माध्यमिक विद्यालय से इंटर पास किया है। 82.6 फीसदी मार्क्स के साथ वह आर्ट्स विषय में टॉपर है। म्यूजिक में उसे 82 फीसदी, हिंदी में 92 फीसदी और सामाजिक ज्ञान में 42 फीसदी मार्क्स मिले हैं। समस्तीपुर से आई खबरों के अनुसार उसके स्कूल ने मीडिया में हुए विवाद के बाद उसे सम्मानित करने का कार्यक्रम रद्द कर दिया है। वहीं, मीडिया में दिखाई जा रही रिपोर्ट्स की मानें तो गणेश की उम्र भी 24 साल है।

वहीं, झारखंड के गिरीडीह का रहने वाला गणेश का कहना है कि कुछ साल पहले वह गांव में अपना गुजर-बसर करने के लिए आया था। वहीं, गांव के कुछ लोगों ने उसे पढ़ाई करने की सलाह दी और उसने स्कूल में ऐडमिशन ले लिया। वहीं, स्कूल के संस्थापक सेक्रेटरी जवाहर प्रसाद सिंह का कहना है कि उसने अपनी मर्जी से ऐडमिशन लिया है।

मीडिया में फिर एक बार राज्य सरकार की शिक्षा व्यवस्था की खिल्ली उड़ने के बाद राज्य के शिक्षा मंत्री अशोक चौधरी ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मुलाकात की। उन्होंने कहा कि मीडिया मामले को तूल दे रहा है। इस बार रिजल्ट में पूरी सावधानी बरती गई है और सभी प्रक्रियाओं का ईमानदारी से पालन किया गया है।