Thursday , September 21 2017

घूसखोर शरीफ की खुल गई पोल, पाकिस्तान की भ्रष्टाचार रोधी निकाय ने भेजा समन

पाकिस्तान के भ्रष्टाचार रोधीइस्लामाबाद। पाकिस्तान के भ्रष्टाचार रोधी निकाय ने प्रधानमंत्री पद के लिए अयोग्य करार दिए गए नवाज शरीफ और उनके दोनों बेटों को धनशोधन और घूसखोरी के मामलों में शुक्रवार को उसके समक्ष पेश होने को कहा है। राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो (एनएबी) के अधिकारी ने डॉन समाचार पत्र को बताया कि शरीफ और उनके दोनों बेटे हुसैन और हसन नवाज को अल-अजीजिया स्टील मिल्स मामले में पूछताछ के लिए लाहौर में जांचकर्ताओं के समक्ष पेश होने को कहा गया है।

इन तीनों की पनामा पेपर्स द्वारा उजागर की गई बेनामी संपत्तियों के संबध में भी जांच की जाएगी।

इकलौता ‘शब्द’ बना पीएम मोदी से लेकर ट्रंप तक का सिरदर्द, जानिए खतरनाक कहानी

सर्वोच्च न्यायालय की पांच सदस्यीय पीठ ने 28 जुलाई को संयुक्त जांच दल (जेआईटी) की जांच के बाद नवाज शरीफ को प्रधानमंत्री पद के लिए अयोग्य करार दे दिया था।

सर्वोच्च न्यायालय ने भ्रष्टाचार रोधी निकाय को शरीफ, उनकी बेटी मरियम नवाज, दोनों बेटों हुसैन और हसन, दामाद मुहम्मद सफदर और वित्त मंत्री इसहाक डार के खिलाफ आठ सितंबर तक चार संदर्भित मामले दर्ज करने के निर्देश दिए थे।

संसदीय सचिवों के पद को लेकर मेघालय उच्च न्यायालय ने जारी किया नोटिस

शरीफ ने अदालत द्वारा प्रधानमंत्री पद के लिए अयोग्य ठहराए जाने के खिलाफ मंगलवार को सर्वोच्च अदालत के समक्ष समीक्षा याचिका दायर की और पनामा पेपर्स मामले में अंतिम फैसला रद्द करने के लिए अलग से आवेदन दिया।

इस आवेदन में शरीफ ने कहा है कि संविधान की धारा 188 के तहत उन्हें बिना सुनवाई के प्रधानमंत्री पद से अयोग्य करार नहीं ठहराया जा सकता।