Friday , November 24 2017

इस श्लोक में समायी है सम्पूर्ण रामायण, करें प्रतिदिन पाठ, मिलेगा पुण्य

एक श्लोकी रामायणधर्म शास्त्रों के अनुसार, रामायण का प्रतिदिन पाठ करने से पुण्य मिलता है और व्यक्ति के पाप का नाश होता है, लेकिन वर्तमान समय में संपूर्ण रामायण पढ़ने का समय शायद ही किसी के पास हो। ऐसे में एक ऐसा भी मंत्र है, जिसका रोज विधि-विधान से जप करने से संपूर्ण रामायण पढ़ने का फल मिलता है। इस मंत्र को एक श्लोकी रामायण भी कहते हैं।

यह मंत्र इस प्रकार है-

आदि राम तपोवनादि गमनं, हत्वा मृगं कांचनम्।

वैदीहीहरणं जटायुमरणं, सुग्रीवसंभाषणम्।।

बालीनिर्दलनं समुद्रतरणं, लंकापुरीदाहनम्।

पश्चाद् रावण कुम्भकर्ण हननम्, एतद्धि रामायणम्।।

यह भी पढ़ें:- जानिए… कैसे पड़ा माँ भगवती का नाम दुर्गा?

मंत्र जाप विधि:-

सुबह जल्दी नहाकर, साफ वस्त्र पहनकर भगवान श्रीराम की पूजा करें। भगवान श्रीराम के चित्र के सामने आसन लगाकर रुद्राक्ष की माला लेकर इस मंत्र का जाप करें। प्रतिदिन पांच माला जप करने से उत्तम फल मिलता है। आसन कुश का हो तो शुभ माना जाता है। एक ही समय, आसन व माला के द्वारा जप हो तो यह मंत्र जल्दी ही सिद्ध हो जाता है।